lockdown kab lagega 2023 me – भारत में लोक डाउन कब लगेगा ? 2023 में लॉकडाउन लगेगा कि नहीं ? क्या कोरोनावायरस फिर से आ गया है ?- Covid BF.7 के लक्षण और बचाव के उपाय

lockdown kab lagega 2023, lockdown kab lagega, lockdown kab lagega 2022, lockdown kab lagega 2023 me lockdown kab lagega india mein 2023, lockdown kab lagega 2023 in hindi, lockdown kab lagega 2023 date, lockdown kab lagega date, lockdown kab lagega india mein

kya corona phir aayega 2023 , दोस्तों जैसे कि आप जानते हो कोरोनावायरस 2020 में अपने भारत में आया था और उसने 2020 का लॉकडाउन लगवाया था जिसे हम कोविड-19 लॉकडाउन कहते हैं और आपको भी पता है कि 2020 के लॉक डाउन में क्या-क्या मुसीबतें आई थी और और क्या क्या मुसीबत है लोगों के द्वारा उठाई गई थी , फिर 2021 में भी कोरोनावायरस के कारण लॉकडाउन हुआ था 2021 में भी लोगों ने बहुत ही ज्यादा मुसीबतें उठाई थी और हजारों लोगों ने कोरोनावायरस के कारण अपने प्राण गवा दिए थे

2021 के लोग डाउन में तो भारत में ऑक्सीजन की भारी किल्लत आई और ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए गए तथा विदेशों से ऑक्सीजन मंगाई गई , हालांकि 2021 में कोरोना वैक्सीन का भारत में आजाद हो चुका था और भारत में वैक्सीनेशन बहुत ही तेजी से की गई जिसके कारण कोरोनावायरस के केस  में काफी कमी देखी गई 

kya corona phir aayega 2023 – क्या कोरोनावायरस फिर से आ गया है 2023 

हां दोस्तों कोरोनावायरस का एक नया स्ट्रेन आ चुका है जिसने पूरे चाइना में दहशत मचा दी है और और दोस्तों भारत में चाइना की कोरोनावायरस करने की पेशकश की है भारत अपने कोरोनावायरस की वैक्सीन को चाइना के लिए देगा जो कि चाइनीस वैरीअंट के आगे काफी इफेक्टिव और असरदार है 

देश-दुनिया में एक बार फिर कोरोना महामारी की आहट सुनाई दे रही है। चीन, जापान, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी जैसे देशों के हालात देखने के बाद हर भारतीय के मन में यही सवाल है कि क्या देश में कोरोना महामारी की चौथी लहर (coronavirus 4th wave) आने वाली है, क्या इस साल भी कोरोना संक्रमण क्रिसमस और नए साल के जश्न को फीका कर देगा? 

भारतीय स्वास्थ्य सलाहकारों का कहना है कि भारत में भी यह कोरोना का वैरीअंट आएगा लेकिन भारत में चाइना के स्तर पर समस्या नहीं होगी क्योंकि इस वैरीअंट का असर भारत के ऊपर कम ही होगा भारत में 95% लोगों ने वैक्सीन लगवा ली है और अभी लोग बूस्टर डोज लगवा रहे हैं जिससे उनके ऊपर इस वैरीअंट का खतरा कम ही होगा 

 

New Chinese coronavirus Variant  2023 – कोरोनावायरस नया वेरिएंट कौन सा है 2023 

चीन में कोरोना के Omicron Variant BF.7 ने बहुत ही बड़ी महामारी का रूप धारण कर लिया है और तबाही का मंजर दिखाया है भारत में भी करुणा का यह वैरीअंट गुजरात उड़ीसा पश्चिम बंगाल में देखने को मिला है और इसके मरीजों की पुष्टि हो चुकी है 

 

 lockdown kab lagega 2023 me – lockdown कब लगेगा 2023 में

दोस्तों फिलहाल में लॉकडाउन की आशंका नहीं है : कोरोनावायरस के इस नए संक्रमण के दौरान भारत के सभी नागरिकों के मन में यह प्रश्न उठा रहा है संक्रमण बढ़ने पर क्या दोबारा लॉकडाउन लगेगा। 

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के डॉ. अनिल गोयल ने इसका जवाब दिया है। दोस्तों डॉक्टर गोयल के अनुसार देश में लॉकडाउन जैसे हालात नहीं होंगे, क्योंकि भारत में 95% जनसंख्या का टीकाकरण हो चुका है। भारतीय लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अधिक है, इसलिए आशा करते हैं कि भारत में चाइना से हालत ना हो। लोगों को बेसिक कोरोना गाइडलाइन जैसे माक्स लगाने, भीड़ से दूर रहने, लक्षण मिलने पर खुद को अलग करने जैसे नियमों का पालन करने की आवश्यकता है।

2023 me lockdown kab lagega – लॉक डाउन कब लगेगा तारीख 

दोस्तों अभी स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा किसी प्रकार के लॉक डाउन की घोषणा नहीं की गई है लॉक डाउन के बारे में पूरे विश्वास के साथ कहना मुश्किल है लेकिन सरकार अभी अपनी गाइडलाइन बना रही है और मीटिंग तथा आपस में विचार-विमर्श कर रही है जिससे कि आमजन को परेशानी ना हो और भारत में कोरोनावायरस की चौकी लहर ना आ पाए

नया कोरोनावायरस वैरीअंट Covid BF.7 वैरिएंट क्या है – Covid BF.7 Variant Explained In Hindi 

नवंबर की शुरुआत से दुनिया भर में कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं। भारत में अब मामला काबू में है, लेकिन चीन इससे बुरी तरह जूझ रहा है. कुछ अनुमानों के मुताबिक हालिया बढ़ोतरी के चलते चीन पर करीब 20 लाख लोगों की मौत का खतरा मंडरा रहा है। एक महामारी विशेषज्ञ ने यहां तक ​​ट्वीट किया है कि अगले कुछ महीनों में चीन की 60% आबादी संक्रमित हो सकती है।

चीन में कोरोना का प्रकोप कई देशों के लिए चिंता का सबब बना हुआ है, लेकिन भारत में कोई गंभीर खतरा नहीं है। चीन में कुछ महीने पहले तक कोविड से जुड़ी पाबंदियां थीं। खराब चिकित्सा नीति के कारण चीन के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। ऑमिक्रॉन का bf.7 वैरिएंट भी वहां गंभीर प्रभाव डाल रहा है। यह वेरिएंट भारत में कई महीने पहले आ चुका था लेकिन यहां इसका कोई असर नहीं हुआ।

कोरोना के नए वेरिएंट का नाम BF.7 कैसे पड़ा?

BF.7 वास्तव में संक्षिप्त रूप है। पूरा नाम है: BA.5.2.1.7। यह ओमिक्रॉन के BA.5 वेरिएंट का सब-वेरिएंट है। ऑमिक्रॉन के BA.5 वैरिएंट में दुनिया भर में रिपोर्ट किए गए मामलों की संख्या सबसे अधिक है। कुल मामलों का लगभग 76.2%। हालाँकि, BA.4 और BA.5 सब-वेरिएंट भारत में ज्यादा नहीं फैले। हमारे पास सबसे ज्यादा BA.2.75 केस हैं।

कोरोना वायरस म्यूटेट कर रहा है और म्यूटेशन से कई वेरिएंट और सब-वेरिएंट बन सकते हैं। इस प्रक्रिया को अभिसरण विकास कहा जाता है। इन सब-वेरिएंट्स को BA.2.75.2, BF.7 और BQ.1.1 जैसे नाम दिए गए हैं। ये नाम इस तथ्य से निर्धारित होते हैं कि कौन सा उप-संस्करण किस संस्करण से लिया गया है।

 

कितना खतरनाक है सब-वैरिएंट Omicron?

चीन में जो रिपोर्ट्स आ रही हैं वो इशारा कर रही हैं कि BF.7 बाकी Omicron सब-वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है. इसकी सबसे अधिक संप्रेषणीयता है क्योंकि यह तेजी से फैलता है। BF.7 से संक्रमित व्यक्ति कई लोगों को संक्रमित कर सकता है।

ओमिक्रॉन के बाकी वेरिएंट औसतन 4 लोगों को संक्रमित कर सकते हैं और वेरिएंट का इन्क्यूबेशन पीरियड भी कम है। ऊष्मायन अवधि वायरस के संपर्क में आने और पहले लक्षणों की उपस्थिति के बीच का समय है। मतलब जैसे ही आप BF.7 के संपर्क में आते हैं, आप इसे तुरंत पकड़ सकते हैं।

क्या BF.7 भारत में भी आ चुका है?

ओमिक्रॉन के BA.1 और BA.2 सब-वेरिएंट इस साल की शुरुआत में लहर में पाए गए थे। बाद में BA.4 और BA.5 भी आए। हालांकि इन दोनों ने यूरोपीय देशों में ज्यादा तबाही मचाई। इसी तरह, भारत में BF.7 के बहुत कम मामले देखे गए। इस वैरिएंट का एक मामला भारत में जुलाई में, दो सितंबर में और एक नवंबर में सामने आया था और यह वैरिएंट भारत में गुजरात और ओडिशा में पाया गया है।

नया वेरिएंट BF.7- के लक्षण – 

इस वेरिएंट के लक्षण ओमिक्रॉन के अन्य सबवेरिएंट के समान हैं। एक संक्रमित व्यक्ति में बुखार, खांसी, गले में खराश, नाक बहना, थकान, उल्टी और दस्त के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। यह सब-वैरिएंट कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है। अगर किसी को लंबे समय से बदन दर्द हो रहा है तो उसे कोविड टेस्ट करवाना चाहिए। इसके अलावा गले में खराश, थकान, कफ और नाक बहना भी इसके लक्षण हो सकते हैं।

Omicron BF.7: सावधानियाँ

  • शारीरिक दूरी: कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से होता है, इसलिए इससे बचने के लिए लोगों से शारीरिक दूरी बनाए रखना बहुत आवश्यक है। अमेरिका के सीडीसी के मुताबिक, संक्रमण से बचने के लिए सार्वजनिक जगहों पर लोगों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाकर रखें. दूरी बनाकर, आप खांसने या छींकने वाले व्यक्ति से बूंदों को प्राप्त करने से बच सकते हैं।
  • मास्क पहनें: घर से बाहर निकलते समय मास्क जरूर लगाएं। इससे आप संक्रमण की बूंदों से बच जाएंगे। मास्क कोरोना वायरस के अलावा फ्लू, सर्दी और खांसी जैसे अन्य संक्रमणों से भी बचाता है। मास्क को एक बार पहनकर फेंक दें। साथ ही अच्छी क्वालिटी के मास्क का इस्तेमाल करें।

 

  • : अगर आपने अभी तक कोविड का बूस्टर डोज नहीं लगवाया है तो तुरंत लगवा लें। कोरोना संक्रमण का कोई इलाज नहीं है, इसलिए इस समय वैक्सीन ही हमें इसके गंभीर लक्षणों से काफी हद तक बचा सकती है।
  • भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें: कोरोना संक्रमण से बचने के लिए आपको भी बाहर जाने से बचना होगा और ज्यादा से ज्यादा समय घर के अंदर ही बिताना होगा।
  • साफ-सफाई का रखें ध्यान संक्रमित सतह या व्यक्ति को छूने से भी आप कोरोना से संक्रमित हो सकते हैं, इसलिए संक्रमण से बचने के लिए अपने हाथ जरूर धोएं। सबसे पहले अपने हाथों पर साबुन लगाकर उन्हें कुछ सेकंड के लिए रगड़ें और फिर पानी से धो लें।
  • सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें: जब आप बाहर जाएं तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें, अगर साबुन और पानी उपलब्ध नहीं है तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें।

जानने के लिए विजिट करें – healtheministry

Leave a Comment