Bitcoin क्या है - Bitcoin Meaning in Hindi

क्या आप कल्पना कोर सकते है एक ऐसी चीज़ जिसका value आज से 11 साल पहले एकदम ज़ीरो थी। और आज इसका value 27 lakhs है। मे बात कोर राहा हू बिटकॉइन की, कुच दिन पहले आपना all time high प्राइस टच किया जिसकी वजह से इसकी चर्चा मार्किट और मीडिया मे काफी होने लगी है। 

मेने काफी दिनों से बिटकॉइन के बारे मे सच राहा था क्युकी जो लोग share market मे investment और trading  करते है उनको इसके बारे मे पाता होना चाहिए। 

क्युकी कुच बड़े बिजनेसमैन का कहना है की भविष्य मे क्रिप्टोकोर्रेंसी का प्रचालोन काफी होने लागेगा। 

इसलिए मेने सोचा ये टाइम सही होगा इसपर एक education post के माध्यम से आपको जानकारी देना और आपको अच्छे से explain करके बाताना की Bitcoin क्या है, Bitcoin का इस्तेमाल काहा और क्यों किया जाता है, Bitcoin का प्राइस कैसे बढ़ता है, legal tender क्या है, Bitcoin miner किसे कहते है, Bitcoin के फायदे और नुक्सान 

Bitcoin Meaning in Hindi




आज से 13 साल पहले 31st october 2008 मे एक इंसान जिसका नाम है Satoshi Nakamoto इन्होने इंटरनेट पे एक paper publish किया जिसका मुख्य उद्देश था... 

a version of electronic cash that would allow payment to be sent directly from one party to another party with out going through financial. (इलेक्ट्रॉनिक नकदी का एक संस्करण जो वित्तीय संस्थानों से गुजरे बिना भुगतान को सीधे एक पक्ष से दूसरे पक्ष को भेजने की अनुमति देगा।) 

friends, satoshi के paper और cryptocurrency का contact समझने के लिए हामे आपना आर्थिक इतिहास यानि Economic history के कुच important concept को समझना पड़ेगा। 

हामारे जो financial system है वो भोरोसे या ट्रस्ट पे आधारित है। currency notes or coins की हामारे समाज मे इसलिए value है क्युकी गवर्नमेंट और सेंट्रल बैंक के द्वारा ये समर्थित है। 

आप आपने वॉलेट से कोई भी नोट उठा कोर देख लीजे वहा पार RBI के गवर्नर के sign देख पाएंगे। किसी भी नोट पर “मैं धारक को 100 या 200 रूपए अदा करने का वचन देता हूँ ये जरूर लिखा होता है। 

इस guarantee के बिना कोई value नहीं है इस नोट की तो इससे आपको क्लियर होगया सरकार और सेंट्रल बैंक कितने powerful है पैसे और monetary policy के मामलो मे, 

अब बात ये है की जब आप बैंक मे आपना पैसा डिपाजिट करते हो तो एक तरहा से आप बैंक को उस पैसे के साथ खेलने की अनुमति देते हो बैंक इन्ही डिपाजिट से कंपनी और individual को लोन देते है, इसी कारण से आपको interest मिलते है। 

हाल ही मे आपने देखा होगा बैंक इन saving and deposit को अक्सर गैर जिम्मेदार तरीके से इस्तेमाल करते है, ऐसा कोई बार होता है की बैंक बड़े बड़े उद्योगपतिो को बिना चेक किये लोन देते है फिर वो लोन bad debts या NPAs बन जाता है। और इसका शिकार बनते है हम जैसे जमाकर्ता। 

8 November 2016 आपको याद है Demonetisation के कारण एक झटके मे 500 or 1000 के नोट बेकार कोर दिया था सरकार ने।

जो लोग bitcoin or cryptocurrency के favour मे है एक बड़ा कारण इसके पीछे एहि है की वो नहीं चाहते के सरकार और सेंट्रल बैंक के पास इतना ज्यादा कण्ट्रोल ना हो हामारे पैसा का। 

आब समझ मे आया आपको Satoshi Nakamoto का क्या original idea था Satoshi ने बिटकॉइन को एक alternative financial systems जैसे imagine किया था जो software technology पे आधारित होगा, और third party कण्ट्रोल से बाहार होगा। 

Bitcoin क्या है

Bitcoin एक Virtual currency है इसे आप digital currency भी कह सकते है। क्युकी इसे डिजिटल तरीके से उपयोग किया जाता है। 

बिटकॉइन को Virtual currency इस लिए काहा जाता है क्युकी ये बाकी currency से बिलकुल अलग है, इसे बाकि currency जैसे euro dollar rupees की तरह नाही हम देख सकते है और नाही उसे पैसे की तरह छू सकते है 

लेकिन फिर भी हम इसका इस्तेमाल पैसे की तरह ही लेन देन मे करते है। बिटकॉइन को हम सिर्फ Online wallet मे स्टोर कोर सकते है। 

बिटकॉइन एक decentralized currency है इसका मतलब ये है की इसे कण्ट्रोल करने के लिए कोई भी बैंक या गवर्नमेंट का authority नहीं है यानि की कोई भी इसका मालिक नहीं है। 

बिटकॉइन का इस्तेमाल कोई भी कोर सकता है जैसे हम सब इंटरनेट का इस्तेमाल करते है और उसका भी कोई मालिक नहीं है। 

जिसके पास बिटकॉइन होता है वो उसे भौतिक रूप से चीज़ो की खरीदारी नहीं कोर सकते है बल्कि इसकी उपयोग ऑनलाइन ही किया जा सकता है। ऑनलाइन भुकतान के अलावा इसको दूसरी currency मे भी बदला जा सकता है। 

अगर आपके पास बिटकॉइन है तो आप इसे अपनी country के currency मे बदलकर bank account मे transfer कोर सकते है। आज के समय बिटकॉइन दुनिया के सबसे मेहेंगे currency बान गया है। 

बिटकॉइन को किसी संगस्था द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है जिसका अर्थ ये है इसके ऊपर सरकार या बैंक का कोई अधिकार नहीं है। 

Bitcoin का इस्तेमाल काहा और क्यों किया जाता है 

Bitcoin का इस्तेमाल आप online payment या किसी भी तरह की transaction करने के लिए कोर सकते है। 

bitcoin peer to peer नेटवर्क पर आधारित है जिसका मतलब है लोग एक दूसरे के साथ सीधे ही बिना किसी बैंक, क्रेडिट कार्ड या किसी कंपनी के माध्यम से आसानी से transaction कोर सकते है। 

आम debit and credit card से भुकतान करने मे लगभग 2 se 3% लेनदेन की शुल्क लागते है लेकिन बिटकॉइन मे ऐसा कुच नहीं होता है इसका लेनदेन मे कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लगती है इस वजह से ही ये लोकप्रिओ होता जा रहा है। 

इसके एलावा ये सुरक्षित और तेज़ भी है। आज बहुत से लोग बिटकॉइन को आपना राहा है जैसे online developer entrepreneur non profit organization आदि। और इसी वजह से बिटकॉइन का इस्तेमाल पूरी दुनिया मे global payments के लिए किया जा राहा है। 

किसी ओन्नो credit card की तरह उसमे कोई क्रेडिट लिमिट नहीं होती है और ना ही कोई नगद लेके घूमने की समस्या है। 

Bitcoin का प्राइस कैसे बढ़ता है

ये पूरा का पूरा खेल चलता है demand and supply के formula से। जैसे जैसे डिमांड बढ़ती है वेसे वेसे उसका प्राइस भी बढ़ती है। और डिमांड कम होती है तो प्राइस भी कम हो जाता है। 

जिस बेक्ति ने बिटकॉइन बानाया था उसने इस पूरी दुनिया के लिए 21 मिलियन बिटकॉइन त्यार किये थे और उसके बाद ना तो इससे ज्यादा बानाया ना ही इससे कम बानाया। अब इस 21 मिलियन मे से 18.5 million bitcoins मार्किट मे आ चुके है और बाकि आभी आना है। 

आब समझते है आखिर इसका प्राइस बढ़ता कैसे, बहुत सारि बड़ी बड़ी कंपनी जब इसमे पैसा निवेश करना शुरू कोर दिया था और बहुत बड़ी बड़ी कंपनी के मालिक ने ये कहना शुरू कोर दिया cryptocurrency भविष्य का पैसा है। 

जैसे elon musk को आप सभी ने जानते है उन्होंने आपना बहुत सारा पैसा क्रिप्टोकोर्रेंसी मे लगाया आब लोगो ने देखा elon musk cryptocurrency मे पैसा लागा रहा है तो वो भी पैसा लगाने लागे, जैसे जैसे डिमांड बढ़ती गयी सप्लाई कम थी तो उसका प्राइस आपने आप बढ़ने लगी

लेकिन थोड़े दिन पहले ही elon musk ने बिलकुल क्लियर कोर दिया की legal tender के रूप मे cryptocurrency को वो accept बिलकुल नहीं करेंगे। 

और ये खबर सुनते ही मार्किट मे हड़कंप मच गया। सब लोग आपनी आपनी बिटकॉइन बेचने लगी और इससे इसका भाऊ भी कम होता गया। bitcoin का प्राइस 30% तक गिर गया था। 

legal tender क्या है

legal tender का मतलब होता है की RBI ने हम सभी के लिए पैसा जारी किया है। हम उन पैसे को कोई भी ले जाकर कुच भी सामान खरीद सकते है, 

लेकिन यदि आप बिटकॉइन को लेकर कोई जाते हो जो की digital form मे होती है तो आप उससे कुच भी खरीद नहीं सकते। 

जैसे आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते है और उन शेयर को लेके कार वालो के पास जाते हो आप उसको कहते हो मुझसे ये शेयर ले लीजे और आप मुझे ये कार दे दिजे तो कार वालो आपको कार बिलकुल नहीं देंगे वो कहेंगे की आपको मुझे पैसा ही देना होगा जो की legal tender होता है। और जिससे आप कोई भी चीज़ खरीद सकते है। 

Bitcoin miner किसे कहते है

सारे बिटकॉइन transaction का एक पब्लिक खाता होता है जिसको ledger काहा जाता है आप इसको ऐसे समझ सकते है ये जो खाता है इसकी कॉपी हार एक सिस्टम मे होती है जो बिटकॉइन नेटवर्क का हिस्सा है, जो लोग सिस्टम चालाते है उन्हें miners कहते है 

miners का काम है transaction को verify करना। मान लो A or B दो लोग है, A को B के अकाउंट मे 1 bitcoin भेजना है तो ऐसेमे miners को कन्फर्म करना पड़ेगा की A के खाते मे सच मे 1 bitcoin है या नहीं 

transaction confirm करने के लिए miners को एक जटिल गणितीय समीकरण का समाधान करना पड़ेगा, हार एक बिटकॉइन transaction का एक unique variable होता है miners का काम है इसको ढूंढ के निकालने का। 

ये सारे कैलकुलेशन computer automatically किये जाते है क्युकी ये equation बहुत ज्यादा उलझा हुआ होता है। ये combination करोड़ मे होता है इसी कारण से इन miners को बहुति complex or high processing power वाली कंप्यूटर की जरुरत होती है। 

इस काम को करने के लिए miners को इनाम के रूप मे मिलती है बिटकॉइन। इस सिस्टम को Proof of Work कहते है। 

Bitcoin के फायदे 

  1. transaction करने के लिए बिच मे कोई मीडिएटर नहीं होता है। 
  2. ये global money है आप किसी भी देश से किसी दूसरे देश मे बिना इज़ाज़त लिए भेज सकते है। 
  3. transaction fees बहुत कम होती है। जब की dollers से indian rupees मे या indian से dollar rupees मे आपको पैसा covert करना है तो उसके लिए आपको एक amount pay करना होता है जो की cryptocurrency मे नहीं होता है। 
  4. इसका transaction जल्दी और आसानी से होता है। 


Bitcoin के नुक्सान 

  1. गलत transaction का पाता लागाना बहुति मुश्किल होता है। 
  2. गलत कार्यो मे प्रयोग होना। 
  3. इसका प्राइस बहुत जल्दी ऊपर नीचे होती रहती है 


आपको मेरा आर्टिकल Bitcoin क्या है - Bitcoin Meaning in Hindi कैसा लागा जरूर कमेंट करके बताए। अगर आपके मन मे कोई भी सवाल है Bitcoin in Hindi से related तो जरूर पूछे। इस जानकारी को आपने रिस्तेदार और दोस्तों को भी जरूर शेयर कोरे ताकि उनको भी पाता चले। 

Post a Comment

0 Comments