बोनस शेयर क्या होता है - What Is Bonus Share In Hindi

बोनस शेयर क्या होता है - Bonus Share Meaning In Hindi: जब किसी कंपनी को अपने व्यापार से अतिरिक्त लाभ होता है तो उस लाभ की पूंजी में से एक हिस्सा कंपनी अपने Reserve और Surplus में सुरक्षित रखती है और भविष्य में रिज़र्व और सरप्लस में से ही कंपनी अपने निवेशकों के लिए अतरिक्त शेयर जारी करती है जिसे Bonus Share कहते है। बोनस शेयर से कंपनी की Net Worth में किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं होता है।

क्योंकि बोनस शेयर बिलकुल फ्री होते है कंपनी बोनस शेयर देने के बदले में कोई पैसे नहीं लेती है, लेकिन बोनस शेयर केवल उन्हीं को मिलते है जिन्होंने कंपनी में निवेश कर रखा हो और जिनके पास पहले से ही कंपनी के कुछ शेयर हो। जितने शेयर पहले किसी निवेशक के पास है उसी के अनुपात में नये Bonus Share दिये जाते है।

उदाहरण के लिए मान लीजिए किसी निवेशक के पास ABC कंपनी के 1000 शेयर है, और कंपनी अपने निवेशकों को उनके पास उपलब्ध प्रति 2 शेयर के बदले में 1 बोनस शेयर देने की घोषणा करती है। तो उस निवेशक को (1000/2)= 500 बोनस शेयर मिलेंगे। जिससे उसके पास उपलब्ध शेयर की संख्या बढ़कर 1500 Share हो जायेगी।


What Is Bonus Share In Hindi

बोनस शेयर का महत्व

अगर कंपनी बोनस शेयर जारी कर रही है तो इसका अर्थ यह हुआ की कंपनी आर्थिक रूप से काफी मजबूत है। इससे निवेशकों का कंपनी पर भरोसा बढ़ता है और लम्बे समय में कंपनी के Share की कीमत भी बढ़ती है।

लेकिन जिस समय बोनस शेयर जारी किये जाते है उस समय कंपनी के शेयर की कीमत कम हो जाती है। इसकी मुख्य वजह मार्किट में Share की Supply बढ़ना होता है। जब कंपनी बोनस शेयर जारी करती है तो उस समय जिस अनुपात में बोनस शेयर जारी किये गए है उस अनुपात में कुछ समय के लिये कंपनी के शेयर की कीमत कम हो जाती है। शेयर की कीमत कम होने के वजह से छोटे निवेशक भी उस शेयर के प्रति आकर्षित होते है।(बोनस शेयर क्या है - Bonus Share In Hindi)


कंपनी बोनस शेयर कब जारी करती है

जब कंपनी को लाभ होता है और कंपनी के Reserve और Surplus में भारी बढ़ोतरी होती है, तब कोई कंपनी अपने निवेशकों में बोनस शेयर जारी करने का निर्णय लेती है। आम तौर पर जब कंपनी को लाभ होता है तो कंपनी अपने निवेशकों को Dividend देकर लाभ में हिस्सा देती है लेकिन कई बार कंपनी डिविडेंड न देकर या थोड़ा डिविडेंड देकर बचे हुए हिस्से से Bonus Share जारी कर देती है। बोनस शेयर जारी करने से कंपनी की पूंजी (Share Capital) बढ़ती है।

जब कंपनी डिविडेंड देती है तो वह Cash के रूप में होता है और सीधे निवेशकों के बैंक अकाउंट में ऐड होता है जबकि बोनस शेयर में कंपनी अपनी ही कंपनी के शेयर निवेशकों को देती है जिससे की कंपनी की पूंजी कहीं बाहर नहीं जाती है बल्कि कंपनी में ही रहती है। Bonus Share जारी करने से कंपनी के शेयर के दाम कम हो जाते है जिससे ज्यादा निवेशक उस शेयर को खरीद सकते है। (बोनस शेयर क्या होता है - What Is Bonus Share In Hindi)


बोनस शेयर के सम्बन्ध में ध्यान रखने वाली बातें

1. Bonus Announcement Date: यह वह तारीख होती है जिस दिन कंपनी द्वारा बोनस देने की घोषणा की जाती है।

2. Record Date: यह वह तारीख होती है जिससे पहले अगर किसी निवेशक ने उस कंपनी के शेयर खरीदें होंगे तो ही उसे बोनस शेयर दिया जायेगा। अगर रिकॉर्ड डेट के बाद में कोई उस कंपनी में निवेश करता है तो उसे Bonus Share नहीं दिया जायेगा। 

3. Cum Bonus: इसका अर्थ होता है वे शेयर होल्डर जो बोनस शेयर पाने के अधिकारी है। 

4. Ex Bonus Date: यह वह तारीख होती है जिस दिन सभी निवेशकों के डीमैट अकाउंट में उस कंपनी के शेयर होना अनिवार्य है, जिनके अनुपात में कंपनी बोनस शेयर जारी करती है।  

Bonus Share के फायदे 

बोनस शेयर देने वाली कंपनी में निवेश करने से निवेशक के पास कंपनी के Share की संख्या बढ़ जाती है। जिससे भविष्य में जब कंपनी डिविडेंड देती है तो निवेशक को ज्यादा डिविडेंड मिलता है। क्योंकि डिविडेंड Per Share पर दिया जाता है।

Bonus Share Issue करने की वजह से शेयर की कीमत कम हो जाती है और मार्किट में कंपनी के शेयर की लिक्विडिटी बढ़ जाती है जिससे आम निवेशक भी शेयर खरीद सकते है।(Bonus Share क्या  है - Bonus Share In Hindi)

इन्हे भी पढ़े
ट्रेडिंग क्या है 
इन्वेस्टिंग क्या है 
पैसा कहां इन्वेस्ट करना चाहिए

कंपनी हर साल बोनस शेयर जारी नहीं करती है बल्कि कुछ खास मौको पर ही जब कंपनी अच्छा परफॉर्म कर रही हो, कंपनी के रिज़र्व और सरप्लस काफी बढ़ चुके हो और कंपनी के शेयर की प्राइस भी बढ़ चुकी हो तब कंपनी की शेयर कैपिटल बढ़ाने और शेयर की प्राइस कम करने के लिये Bonus Share जारी किये जाते है।

Post a comment

0 Comments