मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या है ? Market Capitalization In Hindi

What Is Market Capitalization In Hindiमार्केट कैपिटलाइजेशन क्या होता है ? What Is Market Capitalization In Hindi

मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या है ? Market Capitalization In Hindi: आज की इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या होता है, Large Cap, Mid Cap, Small Cap क्या है और शेयर बाजार में इनका क्या महत्व है। अगर आप यह सब जानना चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा पढ़िए।

किसी भी कंपनी की कुल कीमत को मार्किट कैपिटलाइजेशन कहते है। 

जैसे: रिलायंस भारत की सबसे बड़ी कंपनी है और रिलायंस का Market Capitalization 8 लाख करोड़ रुपये है। जिसका अर्थ यह हुआ की रिलायंस जितना भी व्यापार करती है उसके कुल व्यापार की कीमत 8 लाख करोड़ रुपये है। 

किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले उसके Market Capitalization के बारे में जरूर पता लगाना चाहिए। आम तौर पर निवेशकों को यह लगता है की अगर किसी कंपनी का Share Price ज्यादा है तो उसका Market Capitalization भी ज्यादा होगा। और वह कंपनी बड़ी होगी जबकि यह बिलकुल भी सच नहीं है। किसी बड़ी कंपनी का शेयर कम प्राइस का भी हो सकता है और कोई ज्यादा दाम पर मिलने वाला शेयर छोटी कंपनी का भी हो सकता है।

उदाहरण के लिए आज अप्रैल 2020 में NTPC के एक शेयर की कीमत 90 रुपये है और इस कंपनी का मार्किट कैपिटलाइजेशन 86000 करोड़ रुपये है। जबकि शेयर मार्किट में ही लिस्टेड एक और कंपनी PAGE INDUSTRIES के एक शेयर की कीमत 17232 रुपये है और इस कंपनी का मार्किट कैपिटलाइजेशन 19000 करोड़ है। आप देख सकते है इन दोनों ही कंपनी के Share Price और Market Capitalization में कितना अंतर है। कंपनी छोटी है या बड़ी यह उसके Share Price देखने से पता नहीं चलता है बल्कि उसके लिए कंपनी का मार्किट कैपिटलाइजेशन देखना होता है। 

इसे भी पढ़े:  Short Term Investment क्या है 

आइये जानते है किसी भी कंपनी के Market Capitalization की Calculation कैसे की जाती है।

किसी कंपनी का मार्किट कैपिटलाइजेशन पता करने के लिए कंपनी के Total Outstanding Share को शेयर की Current Market Price से गुणा करनी होती है।

Outstanding Share वे शेयर होते है जो स्टॉक एक्सचेंज पर आम जनता के खरीदने - बेचने के लिए उपलब्ध होते है। इनमें उन शेयर्स को भी शामिल किया जाता है जो कंपनी के प्रमोटर या इन्वेस्टर के पास होते है। 

Market Capitalization Formula = (Total No. of Outstanding Share)  X  (current share Price)

अगर किसी कंपनी के Total Outstanding Share 50 करोड़ है और कंपनी के एक शेयर की मार्किट प्राइस 200 रुपये है तो (50 * 200)= 10000 करोड़ कंपनी का मार्किट कैपिटलाइजेशन होगा। Market Capitalization हमेशा फिक्स नहीं होता है कंपनी के शेयर की प्राइस में बदलाव आने पर मार्किट कैप भी कम ज्यादा होता है।(Market Capitalization Meaning In Hindi) 

इसे भी पढ़े: Long Term Investment क्या है 

शेयर मार्किट की सभी कंपनियों को उनकी कुल कीमत के आधार पर तीन भागों में बाँटा जाता है 
  1. लार्ज कैप स्टॉक (Large Cap Stock)
  2. मिड कैप स्टॉक (Mid Cap Stock)
  3. स्मॉल कैप स्टॉक (Small Cap Stock)
1. लार्ज कैप स्टॉक (Large Cap Stock)

Large Cap Share Meaning In Hindi: स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड टॉप 100 कंपनियों को लार्ज कैप शेयर कहते है। लार्ज कैप शेयर कम वोलेटाइल और कम जोखिम भरे होते है। यह शेयर एकदम से बहुत ज्यादा बढ़ते या घटते नहीं है। लार्ज कैप शेयर वह होते है जिनका मार्किट कैपिटलाइजेशन 10000 करोड़ से ज्यादा होता है। कोई भी लार्ज कैप कंपनी अपने व्यापार और इंडस्ट्री की टॉप कंपनी होती है। आम तौर पर सभी लार्ज कैप कम्पनिया मार्किट लीडर होती है। 

Large Cap कंपनियों को Too Big To Fail कहते है क्योंकि ये कंपनिया इतनी बड़ी होती है की ये फ़ैल भी नहीं हो सकती है। अगर ये कंपनिया Fail हो जाये तो, साथ में देश की Economy को भी Slowdown में ले जाती है। 

2. मिड कैप स्टॉक (Mid Cap Stock)

Mid Cap Share Meaning In Hindi: वे कंपनिया जिनका मार्किट कैपिटलाइजेशन 2000 करोड़ से 10000 करोड़ के बीच में होता है उन कंपनियों के शेयर को मिड कैप शेयर कहते है। कई बार मिड कैप कंपनिया बहुत तेज़ी से ग्रो करती है और भविष्य में एक लार्ज कैप कंपनी बन जाती है। भारत की 101 वी सबसे बड़ी कंपनी से लेकर 500 वे नंबर की कंपनी तक मिडकैप कंपनी मानी जाती है। इन कंपनियों में लंबे समय के लिए निवेश करके अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

3. स्मॉल कैप स्टॉक (Small Cap Stock)

Small Cap Share Meaning In Hindi: स्मॉल कैप कंपनियों का Market Capitalization 2000 करोड़ से कम होता है। स्मॉल कैप कंपनी किसी अन्य कंपनी की तुलना में ज्यादा रिटर्न देती है लेकिन यह अन्य कंपनियों की तुलना में ज्यादा वोलेटाइल और जोखिम से भरी होती है।

सिर्फ मार्किट कैपिटलाइजेशन देख कर किसी कंपनी में निवेश नहीं करना चाहिए। बल्कि कंपनी का पूरा फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस कर उसमें निवेश करना चाहिए।(मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या है ? Market Capitalization In Hindi) 
भारत की Top 500 कंपनी की Share Price और Market Capitalization के बारे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां