Earning Per Share क्या है? - EPS In Hindi

ईपीएस क्या होता है - EPS Meaning In Hindi: किसी भी कंपनी के पास लाखों से लेकर करोड़ो शेयर होते है और कंपनी अपने एक शेयर के ऊपर कितना लाभ कमाती है इसे EPS कहते है। 

EPS Full Form होता है Earning Per Share हिंदी में इसका अर्थ होता है प्रति शेयर आय।

EPS किसी कंपनी का व्यापार कैसा चल रहा है यह जांनने में मदद करता है। जब कोई कंपनी व्यापार करती है तो उससे लाभ कमाती है और वह लाभ कंपनी के एक शेयर पर कितना है यह पता करने के लिये EPS (Earning Per Share) देखा जाता है।

EPS Meaning In Hindi

EPS को कैसे Calculate किया जाता है 

किसी भी कंपनी का ईपीएस कैलकुलेट करने के लिए आपको उस कंपनी के दो चीज़ो के बारे में पता होना जरूरी है एक उस कंपनी का शुद्ध लाभ कितना है और दूसरा कंपनी के कुल शेयर कितने है। 

Earning Per Share Formula

EPS Formula= Total Net Profit / Total Number of Share

जब कंपनी के तिमाही या सालाना शुद्ध लाभ में से कंपनी के कुल शेयर्स को भाग दे दिया जाता है तो कंपनी का EPS (Earning Per Share) निकल कर आता है।

मान लीजिये एक कंपनी है जिसके मार्किट में कुल 1 लाख शेयर है और उस कंपनी ने साल के अंत में 50 लाख रुपये कमाये तो उस कंपनी का EPS होगा - (5000000 / 100000)= 50 Rupees

इसका यह अर्थ हुआ की कंपनी अपने एक शेयर पर 50 रुपये का लाभ कमाती है। 

ईपीएस का उपयोग किसी एक ही इंडस्ट्री की दो कंपनियों की तुलना करने के लिये किया जाता है। इसमें किसी एक कंपनी के EPS को दूसरी विरोधी कंपनियों के EPS से मिलाकर देखा जाता है अगर EPS दूसरी विरोधी कंपनियों से ज्यादा है तो कंपनी अच्छा व्यापार कर रही है और अगर EPS विरोधी कंपनी के EPS से कम आता है तो कंपनी का व्यापार विरोधी की तुलना में अच्छा नहीं है।(ईपीएस क्या होता है - EPS In Hindi)

ईपीएस का निष्कर्ष

EPS से किसी भी कंपनी के व्यापार और उसके आर्थिक हालात का आंकलन किया जाता है। स्टॉक मार्किट में किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले उस कंपनी का EPS जरूर देखना चाहिए और उसके विरोधी कंपनी के EPS से तुलना जरूर करनी चाहिये। किसी कंपनी का शेयर महंगा दाम पर मिल रहा है या सस्ते दाम पर यह उसके EPS (Earning Per Share) और PE Ratio से पता चल जाता है।(Earning Per Share क्या है? - EPS In Hindi)

Post a comment

0 Comments