कमोडिटी ट्रेडिंग कैसे करें - How To Start Commodity Trading In India

Commodity Trading Kaise Kare: कमोडिटी ट्रेडिंग शुरू करने के लिए किसी भी ब्रोकर के पास ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होता है। ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करवाने के लिये बैंक अकाउंट, पैन कार्ड और एड्रेस प्रूफ चाहिये होता है उसके बाद अपने ट्रेडिंग अकाउंट में पैसे ऐड करके Commodity Market में ट्रेडिंग शुरू कर सकते है।

इससे पहले मैंने एक पोस्ट लिखी थी जिसमें मैंने बताया था कमोडिटी ट्रेडिंग क्या है - What Is Commodity Trading In Hindi अगर अब आपने उस पोस्ट को नहीं पढ़ा है तो उसे जरूर पढ़िये। इस पोस्ट में कमोडिटी ट्रेडिंग कैसे करें - How To Start Commodity Trading In India उसके बारे में जानेंगे। 

How To Start Commodity Trading In India

कमोडिटी ट्रेडिंग शुरू करने के लिए कितने पैसों की जरुरत होती है 

MCX में ट्रेडिंग 5000 रुपये से भी शुरू की जा सकती है लेकिन NCDEX में ट्रेडिंग शुरू करने के लिये 30000 रुपये तक की जरुरत होती है। 


Margin: किसी भी कमोडिटी को खरीदने को लिये पुरे पैसे नहीं देने होते है, बस कुछ मार्जिन जमा करवाना होता है। जैसे: 1 किलो चांदी खरीदने के लिये सिर्फ 5000 रुपये का मार्जिन देना होता है। आम तौर पर ब्रोकर दवारा लिवरेज मिलती है लिवरेज एक उधार होता है जिससे ट्रेडर किसी भी कमोडिटी को खरीद सकता है और ट्रेड कम्पलीट होने के बाद उस उधार को ब्रोकर वापिस ले लेता है।  

Lot Size: किसी भी कमोडिटी को अपने मन मुताबिक मात्रा में नहीं खरीद सकते है बल्कि पहले से ही निर्धारित Lot Size में खरीदना और बेचा जाता है जैसे: चांदी मिनी के 1 लोट में 1 किलो चांदी होती है अगर आपको 2 किलो चांदी खरीदनी है तो कमोडिटी एक्सचेंज पर चांदी के 2 लोट खरीदने होंगे।(How To Do Commodity Trading In India In Hindi)

इसे भी पढ़े: फोरेक्स ट्रेडिंग क्या होती है 

ट्रेडिंग के लिये 5 सबसे बढ़िया कमोडिटी (Top Commodity To Trade In India)

1. Crude Oil: क्रूड ऑइल सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया की सबसे ज्यादा ट्रेड होने वाली कमोडिटी में से एक है। क्रूडऑयल के 1 Lot को डिलीवरी पर खरीदने के लिये लगभग 55000 रुपयों की जरुरत होती है। 

2. Silver: सिल्वर एक Precious Metal है 5 Kg. सिल्वर के 1 Lot को 
डिलीवरी पर खरीदने के लिये लगभग 25000 रुपयों की जरुरत होती है और 1 Kg Silver Mic के 1 Lot डिलीवरी पर को खरीदने के लिये लगभग 5000 रूपये मार्जिन देना होता है।  

3. Gold: Gold इस दुनिया की सबसे पुरानी करेंसी कमोडिटी में से एक है। 100 ग्राम सोने के 1 लोट को 
डिलीवरी पर खरीदने के लिये लगभग 35000 रुपये निवेश करने होते है। 

4. Natural Gas: नेचुरल गैस एक Environment फ्रेंडली फ्यूल है समय के साथ इसकी डिमांड भी बढ़ रही है। नेचुरल गैस के 1 Lot को डिलीवरी पर खरीदने के लिये लगभग 23500 रुपयों की जरुरत होती है। 

5. Aluminium: एल्युमीनियम एक लाइट वेट मेटल है इंडस्ट्री में इसका उपयोग बहुत ज्यादा होता है। एल्युमीनियम के 1 Lot को 
डिलीवरी पर खरीदने के लिये 7500 रुपयों की जरुरत होती है।(How To Start Commodity Trading In India) 

इसे भी पढ़े: फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करें 

कमोडिटी ट्रेडिंग से पैसा कैसे कमाये (Commodity Trading Se Paise Kaise Kamaye)

ट्रेडिंग के लिये कमोडिटी का चयन करें। ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी बनाये और अपनी ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी पर बने रहें, रोज़ - रोज़ अपनी ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी को बदले नहीं। चार्ट पैटर्न, इंडिकेटर, और टेक्निकल एनालिसिस  सीखें। 

क्रूड ऑइल रोजाना 50 से 70 पॉइंट का मूव देता है अगर आप 1 लोट क्रूडऑयल का खरीदकर उस पर 10 पॉइंट का भी मुनाफा कमाते है तो आप 1000 रुपये एक लोट पर कमा सकते है।  क्रूड के 1 लोट को खरीदने के लिये सिर्फ 55000 रुपये की जरुरत होती है। सिर्फ 55000 रुपये लगा कर दिन का 1000 रुपये कमा सकते है। क्रूड में सिर्फ 10 पॉइंट का प्रॉफिट निकालना कोई बड़ी बात नहीं है इसके लिये आप BTC 155 strategy का इस्तेमाल कर सकते है। अगर आपको BTC 155 strategy के बारे में पता नहीं है तो गूगल पर सर्च कर सकते है।  

कमोडिटी ट्रेडिंग में प्रॉफिट कैसे कैलकुलेट करते है 

मान लीजिये आपने Crude Oil Future का 1 Lot को 3410 रुपये पर ख़रीदा, जिसकी एक्सपायरी 1 महीने बाद है और एक्सपायरी के समय उसकी प्राइस 3510 रुपये हो जाती है तो आपका प्रॉफिट होगा (3510-3410) = 100 Rupee Per Unit

Actual Profit = 100*100 = 10000 Rupee Profit

आईपीओ क्या होता है 
IPO में निवेश कैसे करे

Commodity Trading Tips (Commodity Market Rules)


Commodity Market में किसी कमोडिटी की प्राइस डिमांड और सप्लाई पर तय होती है। यदि किसी कमोडिटी की Market Demand बढ़ जाये लेकिन उसकी सप्लाई न बढे तो उस कमोडिटी की प्राइस भी बढ़ जाती है। और अगर कमोडिटी की सप्लाई डिमांड से ज्यादा हो तो उस कमोडिटी की प्राइस घट जाती है। 
डिमांड और सप्लाई के अलावा Volume, Commodity Usage, Liquidity से भी कमोडिटी की प्राइस घटती - बढ़ती है।

कमोडिटी ट्रेडिंग में अनुशासन का होना जरूरी है इसलिये एक अच्छी ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी बनाये जिसमे मनी मैनेजमेंट, स्टॉप लोस्स, टारगेट, रिस्क मैनेजमेंट, एंट्री - एग्जिट पॉइंट इन सभी बातों का ध्यान रखा गया हो। डर या लालच में आकर ख़रीदे या बेचें नहीं।कमोडिटी ट्रेडिंग कैसे करें - How To Start Commodity Trading In India

Post a Comment

0 Comments