इमरजेंसी फंड क्या है? Emergency Fund In Hindi

Emergency Fund क्या होता है - Emergency Fund In Hindi: इमरजेंसी फंड एक ऐसा फंड होता है जिसमें हर महीने कुछ पैसे ऐड किये जाते है और इन पैसों को तब निकाला जाता है जब कोई बड़ी दुर्घटना हो जाती है और पैसों की जरुरत पड़ती है। इमरजेंसी फंड को किसी आपात स्थति से बचने के लिये बनाया जाता है। यह आपात स्थति किसी भी प्रकार की हो सकती है जैसे: मेडिकल इमरजेंसी, नौकरी छूट जाना इत्यादि। 

इमरजेंसी फंड फाइनेंसियल प्लानिंग का एक अहम हिस्सा होता है। जब भी आप Financial Planning करें तो इमरजेंसी फंड  का जरूर ध्यान रखें क्योंकि किसी आपात स्थिति (Emergency Situation) में बिना इमरजेंसी फंड के Financial Problem में आ सकते है।

Emergency Fund In Hindi

Emergency Fund का महत्व 

ज़्यादातर भारतीय घरों में कमाने वाला एक ही सदस्य होता है और कई बार ऐसा होता है की अचानक नौकरी चले जाने या बीमार होने की वजह से वह नौकरी पर नहीं जा सकता है। और घर का मुख्य सदस्य ही नहीं कमायेगा तो पुरे परिवार को पैसो की तंगी का सामना करना पड़ता है। कभी ऐसी स्थति का सामना न करना पड़े इसलिये इमरजेंसी फंड का बनाना बहुत जरूरी है। जब भी परिवार में कोई Emergency आती है तो आप आर्थिक रूप से कमजोर हो जाते है। अगर आप आर्थिक रूप से सशक्त है या आपने Emergency Fund बनाया है तो आप किसी भी प्रकार की इमरजेंसी सामना कर सकते है।(Emergency Fund क्या है)

Emergency Fund में कितना पैसा रखना चाहिए 

आम तौर पर 6 महीने से लेकर 8 महीने तक घर का खर्चा निकल सके उतना पैसा इमरजेंसी फंड में रखना चाहिए। फंड का साइज आप कितना कमाते है और कितना खर्च करते है उस पर निर्भर करता है। अगर आप महीने का 50000 कमाते है तो Emergency Fund में 3 लाख से 4 लाख रुपये रखना उचित रहेगा।(Emergency Fund In Hindi  

इमरजेंसी फंड का पैसा कहाँ रखना चाहिए 

Emergency Fund वहीं पर ही रखना चाहिए जहाँ से आप इसे जल्दी से जल्दी निकाल सकते है। इमरजेंसी फंड को ऐसी किसी भी जगह पर नहीं रखना चाहिये जहाँ पर उसमें उतार - चढ़ाव की संभावना हो। अपने इमरजेंसी फंड को कभी भी प्रॉपर्टी, PPF, EPF, या Share Market में निवेश नहीं करना चाहिये क्योंकि इनमें निवेश किये गए पैसों को जल्दी नहीं निकाल सकते है। 

सबसे बड़ा सवाल यही है की अपने इमरजेंसी फंड को कहाँ पर रखें तो चलिए जानते है की Emergency Fund को कहाँ पर रखना चाहिये। 

1. Saving Bank Account: बैंक अकाउंट में इमरजेंसी फंड को रखना यह सबसे आसान तरीका है। अधिकांश लोग इसी तरीके का इस्तेमाल करते है क्योंकि इसमें किसी भी प्रकार की रिस्क शामिल नहीं है और आपको अपने पैसे पर सालाना 3 से 4 % तक ब्याज भी मिलता है। जरुरत पड़ने पर अपने पैसे को किसी भी ATM से निकाल सकते है। 

2. Fixed Deposit: Emergency Fund की FD करवाना भी एक विकल्प हो सकता है। फिक्स्ड डिपाजिट में सेविंग बैंक अकाउंट की तुलना में ज्यादा ब्याज दर मिलती है और जब जरुरत पड़े फिक्स्ड डिपाजिट को तुड़वाकर पैसा निकाल सकते है। समय से पहले FD तुड़वाने पर कुछ पेनेल्टी भी देनी पड़ती है लेकिन यह ज्यादा नहीं होती है इसे नजरअंदाज किया जा सकता है। 

3. RD Recurring Deposit: RD बचत करने का और इमरजेंसी फंड के लिये पैसे रखने का सबसे अच्छा विकल्प है। अगर आप इमरजेंसी फंड के लिये हर महीने कुछ पैसा सेव करना चाहते है तो हर महीने अपनी सैलरी में से एक निश्चित राशि को RD में डाल सकते है। 

3. Liquid Fund: Liquid Fund में 1 दिन से 91 दिन तक के लिये निवेश कर सकते है। जिसका अर्थ है की आप आज पैसा निवेश करके कल निकाल सकते है। इसमें लगभग FD के बराबर रिटर्न मिलता है। 

4. Cash: हमेशा अपने घर में थोड़ा कैश जरूर रखिये क्योंकि रात -बिरात कोई इमरजेंसी हो जाये तो बाकि सभी जगहों से पैसा निकालने के लिये 1 से 3 दिन लगते है जबकि आपके पास कैश होगा तो उसे कभी भी उपयोग में ले सकते है।(इमरजेंसी फंड क्या होता है - What Is Emergency Fund Meaning In Hindi)

जानकारी के लिये इन्हें भी पढ़े:


आशा करता हूँ की इमरजेंसी फंड क्या है और इमरजेंसी फंड क्यों बनाना चाहिये आपको समझ आया होगा अगर अभी आपका कोई सवाल है इमरजेंसी फंड क्या होता है - What Is Emergency Fund Meaning In Hindi तो कमेंट करके बता सकते है। 

Post a Comment

0 Comments