Scalping Trading क्या है - Scalping Trading In Hindi

What Is Scalping Trading In Hindi
Scalping Trading क्या है - What Is Scalping Trading In Hindi

स्काल्पिंग ट्रेडिंग क्या है What Is Scalping Trading In Hindi: नमस्कार दोस्तों आज में आपको बताऊंगा की स्काल्पिंग ट्रेडिंग क्या होती है (Scalping Meaning In Hindi) इसके अलावा में आपको यह भी बताऊंगा की क्या आपको स्कल्पिंग ट्रेडिंग करनी चाहिए या नहीं तो चलिए जानते है कि Scalping Kya Hai. 

Scalping Trading के अंदर किसी शेयर को कुछ सेकंड से लेकर कुछ मिनटों तक रखकर बेच दिया जाता है इसमें मार्किट में जो छोटे-छोटे मूवमेंट आते है उनका फायदा उठाया जाता है और मार्केट के बंद होने तक बहुत सारे ट्रेड किये जाते है। Scalping Trading एक Trend Following Strategy है जिस दिशा में ट्रेंड हो उसी दिशा में ट्रेड लिए जाते है Scalping में बड़ा पैसा निवेश किया जाता है और छोटा-छोटा प्रॉफिट निकाला जाता है 

उदाहरण: मान लीजिये कोई शेयर है जिसकी Current Price 100 रुपये है और उसके 10000 शेयर आपने खरीद रखे है अब जैसे ही वो शेयर 100 रुपये से बढ़ कर 100.50 पैसे हो जाता है तो आप वह 10000 शेयर बेच देते है तो इससे आपको 5000 रुपये का प्रॉफिट होगा इसे ही Scalping Trading कहते है।   

Scalping Trading महत्वपूर्ण बिन्दु 

Scalping ट्रेडिंग के अंदर पोजीशन साइज बड़ी रखनी होती है और छोटे प्रॉफिट निकालने पर ध्यान दिया जाता है जिसकी वजह से Risk To Reward Ratio और Money Management के नियमों का पालन करना मुश्किल हो जाता है अगर एक गलत ट्रेड हुआ तो बड़ा लोस्स हो सकता है।

स्काल्पिंग के लिए High Volatile Share चुने जाते है और स्काल्पिंग करने के लिए 1-5 Minute के Charts, Price Action, Chart Pattern और Trend line का उपयोग किया जाता है आम तौर पर इंडिकेटर का उपयोग नहीं किया जाता है। 

Scalping Trading सबसे मुश्किल ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी में से एक है इसे करने के लिए बहुत ज्यादा Skill की जरुरत होती है क्योंकि इसमें Quick Action की Required होती है शेयर को कुछ सेकंड से लेकर कुछ मिनट में खरीदकर बेचना होता है। 

Share Market में Scalping Trading में सफल होने के लिए बहुत ज्यादा अनुशासन की आवश्यकता होती है क्योंकि एक गलत ट्रेड बहुत सारे छोटे ट्रेड के प्रॉफिट को खत्म कर सकता है 

स्काल्पिंग ट्रेडर एक दिन में 10 - 100 तक ट्रेड कर देते है जिस वजह से अपने ब्रोकर को बहुत सारी ब्रोकरेज चुकानी पड़ती है इसलिए एक Scalper को Right Time पर Right Trade लेना चाहिए और ब्रोकरेज बचाने का प्रयास करना चाहिए। 

इन्हें भी पढ़े:
Intraday Trading In Hindi
Swing Trading क्या है

Post a Comment

0 Comments